प्रश्न – ब्रिटेन में राष्ट्रवाद का इतिहास शेष यूरोप की तुलना में किस प्रकार भिन्न था ?| How was the history of nationalism in Britain different from that of the rest of Europe?

उत्तर : ब्रिटेन में राष्ट्रवाद का इतिहास : 
  1. यह एक सौ वर्ष तक लगातार चलने वाली प्रक्रिया थी। 1707 में ब्रिटिश संसद ने ऐक्ट ऑफ यूनियन (Act of Union) पारित किया। इसके अनुसार इंग्लैंड और स्काटलैंड के बीच परस्पर एकीकरण हुआ और ब्रिटेन का संयुक्त राज्य अस्तित्व में आया। इनका समीपवर्ती राज्य आयरलैंड था। वहाँ पर कैथोलिक इसाइयों की संख्या अधिक थी और प्रोटेस्टेन्ट लोग बहुत कम थे। इंग्लैंड ने इन प्रोटेस्टेन्ट को उकसाना आरंभ कर दिया जिससे वहाँ पर आए दिन अशांति और गृह-कलह का माहौल बनने लगा। कैथोलिक ईसाइयों ने इसका जबरदस्त विरोध किया, लेकिन ब्रिटेन की सहायता से वहाँ के प्रोटेस्टेन्ट सफल रहे और इस तरह छलनीति तथा बलपूर्वक आयरलैंड को भी ब्रिटेन के संयुक्त राज्य में मिला लिया गया। आयरलैंड के समामेलन की यह घटना वर्ष 1801 में घटित हुई।
    It was a continuous process for a hundred years. In 1707 the British Parliament passed the Act of Union. Accordingly, there was a unification between England and Scotland and the United Kingdom of Britain came into existence. Their nearest state was Ireland. There were more Catholic Christians and fewer Protestants. England started instigating these Protestants, which caused an atmosphere of unrest and quarrels. Catholic Christians vehemently opposed this, but with the help of Britain, the Protestants were successful, and thus, siege and force, Ireland was also annexed into the United States of Britain. This event of the amalgamation of Ireland took place in the year 1801.
  2. उक्त संक्षिप्त इतिहास यह बताता है कि इटली, जर्मनी, यूनान तथा फ्रांस की तरह यूनाइटेड किंगडम ऑफ ग्रेट ब्रिटेन बनाने में कोई प्रत्यक्ष युद्ध नहीं लड़े गए। आंतरिक विद्रोह ही छिट-पुट रूप में उभरे जो कि आसानी से दबा दिए गए। इनसे अंग्रेज जाति की कुटिल और छलनीति की एक झलक मिलती है। सच कहा जाए तो 18वीं शताब्दी से पहले ब्रिटिश राष्ट्र अस्तित्व में था ही नहीं। यहाँ की पहचान केवल जाति आधारित थी। अंग्रेज, वेल्श, स्काट और आयरिश जातियों की अलग-अलग पहचान और राजनीतिक परंपराएँ थीं। अन्य क्षेत्रों में राज्य अस्तित्व में थे लेकिन उन्हें मिलाकर एक गणतंत्र बनाना चाहते थे।
    The above brief history suggests that no direct wars were fought in creating the United Kingdom of Great Britain, like Italy, Germany, Greece and France. Internal rebellions emerged as spoils that were easily suppressed. These give a glimpse of the devious and deceitful English caste. Truth be told, the British nation did not exist before the 18th century. The identity here was caste based only. The English, Welsh, Skat and Irish castes had different identities and political traditions. States existed in other regions but wanted to combine them into one republic.
  3. उक्त सभी जातियों में अंग्रेज जाति सबसे धूर्त थी। उसने अपने छल-बल और कौशल से बिना किसी तरह की मारकाट और युद्ध कराए ही ब्रिटेन के संयुक्त राज्य को बना लिया था। 1688 की सुनहरी क्रांति (Glorious Revolution) अवश्य हुई थी लेकिन इसका स्वरूप भी रक्तपात और युद्ध वाला नहीं था।
    Among all the above castes, the British caste was the most sly. He made the United States of Britain without any maneuver and war by his deceit and skill. There was a Glorious Revolution of 1688, but its form was also not of bloodshed and war.

Leave a Comment

You cannot copy content of this page
Scroll to Top

Live Quiz : बंधुत्व जाति और वर्ग | 04:00 pm