Class 12th Political Science Chapter 7 Important Question Answer 2 Marks समकालीन विश्व में सुरक्षा

प्रश्न 1. सुरक्षा से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर : सुरक्षा का बुनियादी अर्थ है खतरे से आजादी। मानव का अस्तित्व और किसी देश का जीवन खतरों से भरा होता है किंतु हर तरह के खतरे को सुरक्षा पर खतरा नहीं माना जाना चाहिए।

प्रश्न 2. शक्ति संतुलन से क्या अभिप्राय है?
उत्तर : शक्ति संतुलन शक्ति सम्बन्धों में संतुलन, तुल्य भारिता या कुछ सीमा तक स्थिरता है, जो अनुकूल परिस्थितियों में राज्य की किसी सन्धि द्वारा या किन्हीं दूसरे साधनों से पैदा होती है।

प्रश्न 3.क्षेत्रीय सुरक्षा’ से क्या अभिप्राय है?
उत्तर : क्षेत्रीय सुरक्षा का अभिप्राय : क्षेत्रीय सुरक्षा का अर्थ है किसी देश या राज्य के भू-भाग या क्षेत्र की सुरक्षा विद्रोहियों तथा विदेशी आक्रमणकारियों से भू-भाग तथा उसमें रहने वाले लोगों की जान-माल की रक्षा करना।

प्रश्न 4. विश्व सुरक्षा का क्या अर्थ है?
उत्तर : सुरक्षा की अपारंपरिक धारणा के अन्तर्गत सुरक्षा की आवश्यकता सिर्फ राज्य को नहीं व्यक्तियों या समुदाय तथा समूची मानवता को है, इसी को विश्व सुरक्षा या मानवता की सुरक्षा कहा जाता है।

प्रश्न 5. सुरक्षा के संबंध में दो नजरिए बताएँ ।
उत्तर : सुरक्षा के संबंध के दो नजरिए : (i) पारंपरिक सुरक्षा की धारणा, (ii) अपारंपरिक सुरक्षा की धारणा ।
पारंपरिक सुरक्षा : पारंपरिक धारणा का संबंध मुख्यतया बाहरी सुरक्षा से संबंधित है। इसके अंतर्गत सैन्य खतरे को किसी देश के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक माना गया है।
अपारंपरिक सुरक्षा : अपारंपरिक धारणा न केवल बाहरी खतरों से संबंध रखती है, बल्कि इसका संबंध देश की आंतरिक सुरक्षा से भी है। इसमें वे सभी खतरे शामिल होते हैं जो नागरिकों को देश के अंदर से ही होते हैं।

प्रश्न 6. सुरक्षा की पारंपरिक धारणा के अनुसार किसी देश की सुरक्षा के सामने किन्हीं दो खतरों को उजागर कीजिए।
उत्तर : (i) पारंपरिक अवधारणा में खतरे का स्रोत कोई दूसरा देश होता है जो सैन्य हमले की धमकी देकर संप्रभुता, स्वतंत्रता और क्षेत्रीय अखंडता जैसे देश के केंद्रीय मूल्यों के लिए खतरा पैदा करता है। (ii) पारंपरिक धारणा में खतरे का सबसे भयानक स्रोत आजकल सभी देशों के सामने आतंकवाद है जिसमें राजनीतिक खून-खराबा अर्थात् जान-बूझकर और निजी स्वार्थों के लिए नागरिकों को अपना निशाना बनाया जाता है।

प्रश्न 7. सुरक्षा की अपारंपरिक धारणा से क्या अभिप्राय है?

अथवा

सुरक्षा की अपारंपरिक धारणा का क्या अर्थ है ?
उत्तर : सुरक्षा की अपारंपरिक धारणा का अभिप्राय : सुरक्षा की अपारंपरिक धारणा न केवल सैन्य खतरों से संबंध रखती है, बल्कि इसमें मानवीय अस्तित्व पर चोट करने वाले अन्य व्यापक खतरों और आशंकाओं को भी शामिल किया जाता है। इस अवधारणा में सरकार इस बात के लिए विवश होती है कि वह किन-किन चीजों की सुरक्षा करे, किन खतरों से उन चीजों की सुरक्षा करे और सुरक्षा करने के लिए कौन-से तरीके अपनाए।

प्रश्न 8. शक्ति-संतुलन किस प्रकार परंपरागत सुरक्षा का एक घटक है?
उत्तर : शक्ति-संतुलन परंपरागत सुरक्षा नीति का एक घटक है। यदि कोई देश अपने आस-पास में देखने पर पाता है कि कुछ देश छोटे हैं तथा कुछ बड़े। इससे संकेत मिल जाता है कि भविष्य में किस देश से उसे खतरा होने की संभावना है। यही कारण है कि प्रत्येक सरकार दूसरे देश से अपने शक्ति-संतुलन के बारे में अत्यधिक संवेदनशील रहती है।

प्रश्न 9. निम्नलिखित कथन को सही करके लिखिए : भारत उन 160 देशों में शामिल है, जिन्होंने 1997 में क्योटो प्रोटोकोल पर हस्ताक्षर नहीं हैं। क्योटो प्रोटोकोल में आतंकवाद पर काबू रखने के लिए दिशा-निर्देश बताए गए हैं।
उत्तर : भारत उन 160 देशों में शामिल है, जिन्होंने 1997 में क्योटो प्रोटोकोल पर हस्ताक्षर किए। क्योटो प्रोटोकोल में विश्व तापन पर काबू रखने के लिए ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के सम्बन्ध में दिशा-निर्देश बताए गए हैं।

प्रश्न 10. सुरक्षा की ‘परंपरागत’ तथा ‘गैर-परंपरागत’ अवधारणाओं में आधारित अंतर क्या है?
उत्तर : सुरक्षा की परम्परागत अवधारणा के अनुसार केवल भूखंड एवं उसमें रहने वाले लोगों की संपदा, जान आदि की रक्षा करना, सशस्त्र सैनिक आक्रमणों को रोकना है, जबकि गैर-परम्परागत अवधारणा के अंतर्गत भू-भाग, प्राणियों, सम्पत्ति की रक्षा के साथ-साथ पर्यावरण एवं साझी सम्पत्ति, मानवाधिकारों आदि की सुरक्षा आती है।

प्रश्न 11. समकालीन विश्व में क्षेत्रीय सुरक्षा की अपेक्षा, मानवीय सुरक्षा अधिक महत्त्वपूर्ण क्यों है?
उत्तर : समकालीन विश्व में क्षेत्रीय सुरक्षा की अपेक्षा (बजाय) मानवीय सुरक्षा अधिक महत्त्वपूर्ण इसलिए है, क्योंकि क्षेत्र किसी देश के भूखंड का द्योतक (प्रतीक) है, जबकि मानव पूरी जनता-जनार्दन का। मानव की सुरक्षा और राज्य की सुरक्षा एक-दूसरे के पूरक होते हैं। सुरक्षित राज्य का मतलब सुरक्षित जनता नहीं होता, जबकि सुरक्षित जनता का अर्थ अपने आप में क्षेत्रीय सुरक्षा भी होता है।

प्रश्न 12. सुरक्षा को खतरे के एक नए स्रोत के रूप में, आतंकवाद से निपटने के लिए किसी एक उपाय का उल्लेख कीजिए।
उत्तर : अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सहयोग-मूलक सुरक्षा में विभिन्न देशों के अलावा राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर की संस्थाएँ (संयुक्त) राष्ट्र संघ, विश्व स्वास्थ्य संगठन, विश्व बैंक, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष आदि), स्वयंसेवी संगठन (रेड क्रॉस) आदि शामिल हो सकते हैं।

प्रश्न 13. सामाजिक अधिकारों से आप क्या समझते हैं?
उत्तर : इनमें मुख्य रूप से ये अधिकार शामिल हैं –
(i) विवाह करने और घर बसाने का अधिकार।
(ii) कुटुंब समाज की प्राथमिक इकाई है, जिसे राज्य और समाज का पूर्ण संरक्षण मिले।
(iii) शिक्षा का अधिकार । कम-से-कम प्राथमिक स्तर पर शिक्षा निःशुल्क होनी चाहिए। शिक्षा का लक्ष्य मानव व्यक्तित्व का पूर्ण विकास और मानव अधिकारों के प्रति सम्मान की भावना जगाना है।

प्रश्न 14. भारत की सुरक्षा की रणनीति के किन्हीं दो घटकों का उल्लेख कीजिए ।
उत्तर : भारत की सुरक्षा की रणनीति के दो घटक निम्न हैं: (i) संपूर्ण देश के भू-भाग की रक्षा करना और देश में एकता और अखंडता बनाए रखना ।
(ii) देश की संप्रभुता, राष्ट्र के स्वाभिमान और आर्थिक हितों से किसी प्रकार का हानिकारक समझौता नहीं करना ।

प्रश्न 15. गठबंधन बनाना किस प्रकार पारंपरिक सुरक्षा जीति का एक तत्त्व है ?

अथवा

गठबंधन किस प्रकार सुरक्षा का एक तत्व है?
उत्तर : (i) पारंपरिक सुरक्षा नीति के तहत गठबंधन बनाए जाते हैं। गठबंधन में अनेक देश सम्मिलित होते हैं।
(ii) गठबंधन सैन्य आक्रमण को रोकने या उससे रक्षा करने के लिए समवेत कदम उठाते हैं।

You cannot copy content of this page
Scroll to Top

Live Quiz : बंधुत्व जाति और वर्ग | 04:00 pm