Class 12th Political Science Chapter 9 Important Question Answer 2 Marks वैश्वीकरण

प्रश्न 1. वैश्वीकरण के पक्ष में दो तर्क दीजिए।
उत्तर : (1) वैश्वीकरण की प्रक्रिया का लाभ अधिकांश जनता तक नहीं पहुँच पाया है, इससे आर्थिक असमानता को बढ़ावा मिला है। विशेषतया तीसरी दुनिया के गरीब देशों में बेरोजगारी बढ़ती जा रही है।
(2) आलोचकों के अनुसार बड़ी-बड़ी बहुराष्ट्रीय कम्पनियों की एकाधिकारवादी प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है, बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ व्यापार एवं व्यवस्था के नाम पर छोटे एवं पिछड़े देशों की राजनीतिक व्यवस्थाओं में हस्तक्षेप करने लगी हैं।

प्रश्न 2. वैश्वीकरण को पुनः उपनिवेशीकरण क्यों कहा जाता है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर : वैश्वीकरण की प्रक्रिया के कारण विकासशील एवं कमजोर राज्यों पर विकसित एवं धनी राज्यों का राजनीतिक एवं आर्थिक प्रभाव बढ़ता ही जा रहा है। बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ विकासशील देशों में विकसित देशों के लाभ के लिए ही कार्य कर रही हैं तथा विकासशील देशों को आर्थिक तौर पर अधीन करती जा रही हैं। इसीलिए वैश्वीकरण को पुनः उपनिवेशवाद भी कहा जाता है।

प्रश्न 3. डब्ल्यू.एस.एफ. (W.S.F.) क्या है? इसका क्या उद्देश्य है ?
उत्तर : अर्थ W.S.F. (डब्ल्यू. एस. एफ.) एक नव-उदारवादी वैश्वीकरण का विरोध करने वाला एक विश्वव्यापी मंच (World Social Forum) है।
उद्देश्य : इसके अंतर्गत मानवाधिकार कार्यकर्ता, पर्यावरणविद मजदूर, युवा और महिला कार्यकर्ता वैश्वीकरण का विरोध करते हैं। एकजुट होकर नव उदारवादी

प्रश्न 4. सकल घरेलू उत्पाद (GDP) और सकल राष्ट्रीय उत्पाद (GNP) में अंतर बताइए।
उत्तर : सकल घरेलू उत्पाद (Gross Domestic Product); यह एक दिए गए समय में राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के अन्तर्गत वस्तुओं और सेवाओं का बाजार मूल्य या मौद्रिक मूल्य है।
सकल राष्ट्रीय उत्पाद (Gross National Product) : सकल घरेलू उत्पाद तथा विदेशों से प्राप्त कुल आय मिलकर सकल राष्ट्रीय उत्पाद कहलाते हैं।

प्रश्न 5. ‘सांस्कृतिक समरूपता’ से क्या अभिप्राय है? किसी एक उदाहरण द्वारा स्पष्ट कीजिए कि इसका प्रभाव नकारात्मक नहीं होता।
उत्तर : (i) सांस्कृतिक समरूपता वैश्वीकरण का एक पहलू है, लेकिन सांस्कृतिक समरूपता का यह अर्थ नहीं लगाना चाहिए कि ‘विश्व-संस्कृति’ का उदय हो रहा है।
(ii) नीली जीन्स के ऊपर खादी का कुर्ता पहने अब अमरीकियों को देखना संभव है।

प्रश्न 6. वैश्वीकरण की परिभाषा दीजिए। इसके किन्हीं दो मुख्य पहलुओं का उल्लेख कीजिए ।
उत्तर : 1. वैश्वीकरण एक बहुआयामी अवधारणा है। इसके राजनीतिक, आर्थिक तथा सांस्कृतिक स्वरूप हैं तथा इनके बीच उचित अंतर किया जाना चाहिए।
2.(अ) वैश्वीकरण का प्रभाव विषम रहा है। यह कुछ समाजों को बाकी समाजों की तुलना में तथा समाज के एक की बाकी हिस्सों की तुलना में अधिक प्रभावित कर रहा है।
(ब) वैश्वीकरण को एक आर्थिक परिघटना मान लेना गलत होगा।

प्रश्न 7. वैश्वीकरण के कोई दो नकारात्मक पहलू लिखिए।
उत्तर : 1. वैश्वीकरण के आलोचकों का मत है कि यह विश्वव्यापी पूँजीवाद की एक विशेष अवस्था है, जो अमीरों को और ज्यादा अमीर तथा गरीब को और ज्यादा गरीब बनाती है।
2.वैश्वीकरण परम्परागत सांस्कृतिक मूल्यों के लिए हानिकारक ‘ है। इसके चलते लोग अपने पुराने जीवन-मूल्यों तथा जीवन-शैली के मानकों से हाथ धो बैठेंगे।

प्रश्न 8. बहुराष्ट्रीय निगम से आप क्या समझते हैं?
उत्तर : वह कम्पनी जो एक से ज्यादा देशों में एक साथ अपनी गतिविधियाँ चलाती है, उसे बहुराष्ट्रीय निगम कहते हैं। प्रश्न 12. वैश्वीकरण की एक बड़ी हानि बताइए। उत्तर : वैश्वीकरण ने अमीरों को और ज्यादा अमीर तथा और ज्यादा गरीबों को गरीब बना दिया है।

प्रश्न 9. सांस्कृतिक विभिन्नीकरण की परिभाषा कीजिए।
उत्तर : वैश्वीकरण से प्रत्येक संस्कृति ज्यादा अलग और विशिष्ट होती जा रही है। इस प्रक्रिया को सांस्कृतिक विभिन्नीकरण कहते हैं। इसका मतलब यह नहीं कि संस्कृतियों के मेल-जोल में उनकी ताकत का सवाल गौण है, परंतु इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए कि सांस्कृतिक प्रभाव एकतरफा नहीं होता।

प्रश्न 10. प्रौद्योगिकी में हुई उन्नति ने वैश्वीकरण को किस प्रकार प्रभावित किया?
उत्तर : प्रौद्योगिकी में हुई उन्नति ने वैश्वीकरण को फैलाने में उत्प्रेरक का कार्य किया। प्रौद्योगिकी के प्रवाह ने देशों के बीच ही नहीं दिलों के बीच भी दूरियाँ मिटा दीं। तकनीकी आविष्कारों ने परस्पर सभी देशों को छोड़ दिया है। इससे न केवल हमारा व्यक्तिगत जीवन प्रभावित हुआ है अपितु सामाजिक / सामुदायिक जीवन भी प्रभावित हुआ है।

प्रश्न 11. वैश्वीकरण के किन्हीं दो राजनीतिक परिणामों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर : (i) राज्य की शक्ति का ह्रास।
(ii) बहुराष्ट्रीय कंपनियों के प्रवेश के कारण सरकार की निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित हुई है।

प्रश्न 12. वैश्वीकरण के किन्हीं दो राजनीतिक परिणामों का उल्लेख कीजिए ।
उत्तर : (i) अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, विश्व व्यापार संगठन तथा निजीकरण के कारण राज्यों की शक्ति में कमी आयी है।
(ii) गठबंधन सरकारें बन रहीं हैं। अब राजनीतिक दल अंतर्राष्ट्रीय दबाव समूह की भूमिका निभा रहे हैं।

You cannot copy content of this page
Scroll to Top

Live Quiz : बंधुत्व जाति और वर्ग | 04:00 pm