याद रखने योग्य बातें  – जन-आंदोलनों का उदय – Class12t Political Science chapter 7

जन-आंदोलनों का उदय  (Rise of Popular Movements)

Class 12 | Chapter 7

हिंदी नोट्स

याद रखने योग्य बातें 

  1. जन-आन्दोलन (Popular Movements) : वे आन्दोलन जो जन-हित या लोगों की किसी सामान्य समस्या या समस्याओं में प्राय: दलगत राजनीति से अलग रहकर चलाये जाते हैं। उदाहरणार्थ, चिपको आंदोलन, दलित पैंथर्स आंदोलन, भारतीय किसान यूनियन का आंदोलन आदि।
  2.  चिपको आंदोलन (Chipko Movement) : यह पेड़ या वनों को कटाई  से बचाने वाला आंदोलन था जो 1973 में उत्तराखंड राज्य के कुछ गाँवों से शुरू हुआ था। इसने क्षेत्र की पारिस्थितिकी और आर्थिक शोषण के कहीं बड़े सवाल उठाये थे।
  3. बल-आधारित आंदोलन (Party-based Movements) : जिन आंदोलनों की शक्ति मुख्यतया राजनीतिक दलों से मिले। जैसे सन् 1885 से 1947 का भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन तथा 1977 का जनता पार्टी (जेपी) का राजनीतिक आंदोलन।
  4. सामाजिक आंदोलन (Social Movements) : जो आंदोलन किसी भी संगठन द्वारा मुख्यतया सामाजिक समस्याओं पर चलाये जाते हैं जैसे 19वीं शताब्दी के जाति प्रथा, सती प्रथा या नारी मुक्ति आन्दोलन।
  5. आर्थिक आंदोलन (Economic Movenents) : वे आन्दोलन जो मुख्य रूप से किसी आर्थिक समस्या से किसान आन्दोलन, मजदूर आन्दोलन, नेशनल फिशवर्कर्स फोरम का आंदोलन आदि।
  6. नामदेव ढसाल (Namdev Dasal ) : मराठी के प्रसिद्ध कवि जिनकी दो कविताएँ-‘अंधेरे की पथयात्रा’ और ‘सूरजमुखी  जुड़े हुए हों जैसे आशीषों वाला फकीर’ बहुत प्रसिद्ध हुई थीं।
  7.  दलित पैंथर्स संगठन (Dalit Panthers’ Organisation): 1972 में दलित युवाओं द्वारा गठित किया गया|
  8. बामसेफ (BAMCEF) : आपातकाल के बाद (1976 के बाद) बैकवर्ड-एंड माइनॉरिटी एम्पलाईज फेडरेशन ने दलित पैंथर्स की अवनति से उत्पन्न रिक्त स्थान की पूर्ति की।
  9. बीकेयू (BKU): भारतीय किसान यूनियन। यह यू.पी.तथा हरियाणा के किसानों का एक संगठन था। 1980-90 के दशक में यह खूब सक्रिय रहा।
  10. हरित क्रांति (Green Revolution) से 1960 के दशक में लाभान्वित क्षेत्र/प्रदेश हरियाणा, पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के समृद्ध किसान।
  11. हरित क्रांति के बाद दो मुख्य नकदी फसलें बनी : 1. गन्ना तथा 2. गेहूँ।
  12. जाति पंचायत (Caste Panchayat) : वह पंचायत जो जाति विशेष की समस्याएँ ग्रामीण तथा शहरी दोनों क्षेत्रों में उठाये तथा उनका समाधान करने में जाति मंच का प्रयोग करे।
  13.  एन.एफ.एफ. (N.FE) : नेशनल फिशवर्कर्स फोरम। यह संगठन 1980 के मध्य के बाद से शुरू होने वाली उदारवादी नीति के अंतर्गत विदेशी कंपनियों को भारत में पूर्वी तथा पश्चिमी तट पर लाइसेंस देकर देशी मछुआरों की जीविका के लिए उत्पन्न खतरों से ‘बॉटम ट्राऊलिंग’ जैसे प्रौद्योगिकी के उपयोग की केन्द्रीय सरकार द्वारा अनुमति के विरुद्ध गठित किया गया।
  14.  ताड़ी-विरोधी आंदोलन (Anti-Arrack Movement) : चित्तूर जिले (आन्ध्र प्रदेश) की महिलाओं द्वारा देशी शराब (या ताड़ी) के विरुद्ध अक्टूबर, 1992 का आन्दोलन।
  15.  ताड़ी-विरोधी आंदोलन का नारा : ‘ताड़ी की बिक्री बंद करो।’
  16. संविधान के 73वें और 74वें संशोधन : इसके द्वारा महिलाओं को स्थानीय राजनीतिक निकायों (bodies) में आरक्षण दिया गया है।
  17. नर्मदा बचाओ आंदोलन : यह आन्दोलन 2002 में मध्य प्रदेश , गुजरात और महाराष्ट्र से गुजरने वाली नर्मदा तथा सहायक नदियों के बचाव के लिए चलाया गया। इस आंदोलन ने बड़े बाँधों के निर्माण का विरोध किया।
  18. सूचना के अधिकार के लिए आन्दोलन प्रारंभ : 1990 में हुआ।
  19.  अनुपम मिश्र : प्रसिद्ध गाँधीवादी, चिपको आंदोलन के आरंभिक दौर के टिप्पणीकार, महान विचारक।

Leave a Comment

You cannot copy content of this page
Scroll to Top

Live Quiz : बंधुत्व जाति और वर्ग | 04:00 pm