याद रखने योग्य बाते – मानव भूगोल : विश्व जनसंख्या : वितरण, घनत्व और वृद्धि – Class12th Geography Chapter 2

Index

Class 12th Geography

1. मानव भूगोल

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

2. विश्व जनसँख्या

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

3. जनसँख्या संघटन

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

4. मानव विकास

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

5. प्राथमिक क्रियाएं

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

6. द्वितीयक क्रियाएँ

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

7. तृतीयक तथा चतुर्थक क्रियाकलाप

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

8. परिवहन एवं संचार

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

9. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

Class 12th Geography मानव भूगोल के मूल सिद्धान्त Chapter 2 मानव भूगोल : विश्व जनसंख्या : वितरण, घनत्व और वृद्धि-याद रखने योग्य बिंदु

याद रखने योग्य बिंदु

1.मनुष्य पृथ्वी पर सभी प्रकार के भौगोलिक अध्ययन का केन्द्रबिन्दु है। यह सभी क्रियाकलापों का साधन तथा साध्य दोनों है। आर्थिक विकास के लिए मानव संसाधनों का विकास भी आवश्यक है। अतः जनसंख्या का वितरण आर्थिक विकास पर प्रभाव डालता है। इसलिए इसका अध्ययन आवश्यक है।
2.जनसंख्या का वितरण तथा घनत्व (Distribution of Population and its Density) : विश्व में जनसंख्या का वितरण असमान है। यह इसकी सबसे बड़ी विशेषता है। एक अनुमान के अनुसार विश्व की 90% जनसंख्या पृथ्वी के केवल 10% भाग पर निवास करती है जबकि 10% जनसंख्या 90% भाग पर निवास करती है।
3.जनसंख्या घनत्व को प्रभावित करने वाले कारक (Factors affecting the Density of Population) : पृथ्वी पर जनसंख्या घनत्व को प्रभावित करने वाले कारक निम्नलिखित हैं : (i) भौतिक कारक (Physical factors) : जैसे जलवायु, उच्चावच, मृदा, जल की उपलब्धता, प्राकृतिक वनस्पति तथा खनिज आदि ।
(ii) आर्थिक कारक (Economic factors) : इन कारकों में मनुष्य की आर्थिक क्रियायें जैसे कृषि, उद्योग, पशुचारण, मात्स्यिकी, व्यापार, परिवहन आदि सम्मिलित है। इसका प्रभाव जनसंख्या के घनत्व पर पड़ता है।
(iii) ऐतिहासिक कारक (Historical factors) : प्राचीन ऐतिहासिक स्थान भी सघन जनसंख्या के केन्द्र बन गए हैं। उदाहरण के लिए सिन्धु व नील नदियों की घाटियाँ। ये भारत तथा मिस्र की सघन जनसंख्या का आधार बन गई हैं।
(iv) राजनैतिक कारक (Political factors) : राजनैतिक कारक जैसे गृहयुद्ध, अशांति, राज्यों का विघटन आदि भी स या विरल जनसंख्या का कारण बन जाते हैं।
(v) धार्मिक व सामाजिक कारण (Religious and social factors) : कभी-कभी धार्मिक कारक भी जनसंख्या के घनत्व पर प्रभाव डालते हैं। धार्मिक केन्द्र अन्य अनुकूल परिस्थितियों के न होने पर भी सघन जनसंख्या के केन्द्र बन जाते हैं।
4. सघन जनसंख्या घनत्व के क्षेत्र (Areas of High Population Density) : विश्व में अधिक जनसंख्या घनत्व वाले चार क्षेत्र हैं: (i) चीन सहित सुदूर पूर्व क्षेत्र (Extremly Eastern Countries including China) : इसमें चीन के अलावा कोरिया, जापान, फिलीपाइन्स में विश्व की एक चौथाई जनसंख्या रहती है। जापान में 12.8 करोड़ लोग केवल 3.7 लाख वर्ग कि.मी. क्षेत्र में रहते हैं। चीन के तटवर्ती क्षेत्र में जनसंख्या अधिक है।
(ii) दक्षिण तथा दक्षिण-पूर्वी एशिया (South and South Eastern Asia) : इस क्षेत्र में भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल और मालदीव तथा दक्षिण पूर्व एशिया में इन्डोनेशिया, थाइलैंड, म्यकेनमार, कम्बोडिया और वियतनाम आदि शामिल हैं।
(iii) यूरोप तथा रूस का यूरोपीय भाग (Europe and Russian European part) : इसमें ब्रिटेन, फ्रांस, नीदरलैंड, बेल्जियम, डेनमार्क आदि देश शामिल हैं।
(iv) उत्तर अमेरिका का पूर्वी क्षेत्र (Eastern part of North America) : इसमें ग्रेट लेक्स (महान झीलें) और मिसीसिपी घाटी के पूर्वी क्षेत्र सम्मिलित हैं।
5.मध्यम जनसंख्या घनत्व के क्षेत्र (Areas of Medium Density) : इस क्षेत्र में कनाडा और यूरेशिया के शंकुधारी वनों के क्षेत्र, उत्तरी अमेरिका के प्रेयरी मैदान, एशिया के स्टैपी, दक्षिण अमेरिका के लानोज तथा अफ्रीका के वेल्डस और आस्ट्रेलिया के डाउन्स सम्मिलित हैं। इनके अतिरिक्त अफ्रीका के मोरक्का, भूमध्यसागरीय तट, ईरान, इराक और मध्य एशिया के अधिकतर भाग श्री इसके अंतर्गत आते हैं।
6.कम जनसंख्या घनत्व के क्षेत्र (Areas of Cow Density) : इस क्षेत्र के अन्तर्गत गरम मरुस्थल, ध्रुवीय अत्यंत ठंडे क्षेत्र, पथरीले मरुस्थल जैसे गोबी का मरुस्थल, मंगोलिया और तारिम बेसिन आदि सम्मिलित है। विषवृतीय वन क्षेत्र भी इसी श्रेणी में आते हैं।
7.जनसंख्या वृद्धि के दुष्परिणाम (Disadvantages of Population Growth) : जनसंख्या वृद्धि एक सीमा तक वांछनीय है। लेकिन सीमा से अधिक होने पर अनेक समस्यायें उत्पन्न हो जाती हैं जैसे : 1.भूमि और प्राकृतिक संसाधनों पर दबाव 2. निर्वनीकरण 3. मृदा का अपरदन 4. मत्स्य क्षेत्र का शोषण
8.आप्रवास (Immigration) : बड़े नगरों, व्यापारिक केन्द्रों, औद्योगिक नगरों, बन्दरगाहों आदि में रोजगार पाने के लिए लोगों का आकर बस जाना।
9. संकेन्द्रण सूचकांक (Index of Concentration) : देश की कुल जनसंख्या का वह भाग जो किसी राज्य अथवा किसी प्रदेश में पाया जाता है। इसे प्रतिशत में व्यक्त करते हैं।
10.जनगणना (Census) : सरकार द्वारा किसी क्षेत्र अथवा देश के निवासियों की किसी समय विशेष में गणना जिसके साथ कुछ सामाजिक एवं आर्थिक आँकड़े एकत्र किए जाते हैं। भारत में जनगणना प्रायः हर दस वर्ष के बाद की जाती है।
11.फिजियोलोजिकल अथवा कायिक घनत्व (Physiological Density) : किसी देश या प्रदेश की कुल जनसंख्या तथा वहाँ की कृषि योग्य भूमि के बीच अनुपात |
12. दिक् परिवर्तन (Commutation) : किसी नगर और उसके समीपवर्ती क्षेत्रों में लोगों का दैनिक स्थानांतरण।
13. प्रवासी (Migrant) : कोई भी व्यक्ति जो जनगणना के दिन अपने जन्म स्थान के अतिरिक्त किसी अन्य स्थान पर गिना जाता है वह प्रवासी कहलाता है।


You cannot copy content of this page
Scroll to Top

Live Quiz : बंधुत्व जाति और वर्ग | 04:00 pm