1 अंकीय प्रश्न उत्तर -संविधान का निर्माण – Class12th History Chapter 15

Index

1. ईंट मनके और अस्थियाँ

1. आरंभ 2. निर्वाह के तरीके 3. मोहनजोदड़ो 4. सामाजिक विभिन्नताओं का अवलोकन 5. शिल्प उत्पादन के विषय में जानकारी 6. माल प्राप्त करने सम्बन्धी नीतियाँ 7. मुहरें लिपि तथा बाट 8. प्राचीन सभ्यता 9. सभ्यता का अंत 10. हड़प्पा सभ्यता की खोज 11. अतीत को जोड़कर पूरा करने की समस्याएं मानचित्र बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर 1 अंकीय प्रश्न उत्तर 2 अंकीय प्रश्न उत्तर

2. राजा किसान और नगर

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

3. बंधुत्व जाति और वर्ग

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

4. विचारक विश्वास और इमारतें

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर 1 बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर 2

6. भक्ति सूफी और परम्पराएँ

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

7. एक साम्राज्य की राजधानी विजयनगर

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

8. उपनिवेशवाद और देहात

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

10. उपनिवेशवाद और देहात

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

11. विद्रोह और राज

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

13. महात्मा गाँधी और आन्दोलन

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

15. संविधान का निर्माण

बहुविकल्पीय प्रश्न उत्तर

Class 12th History Chapter 15 Important Question Answer 1 Marks संविधान का निर्माण(एक नए युग की शुरुआत)

प्रश्न 1. जवाहरलाल नेहरू के ‘उद्देश्य प्रस्ताव’ को एक ऐतिहासिक प्रस्ताव क्यों कहा जाता है? कोई दो कारण लिखिए।

उत्तर : (i) “उद्देश्य प्रस्ताव” में स्वतंत्र भारत के संविधान के मूल आदर्शों की रूपरेखा प्रस्तुत की गई थी और वह फ्रेमवर्क सुझाया गया था जिसके तहत संविधान का कार्य आगे बढ़ना था।
(ii) इसमें भारत को एक “स्वतंत्र सम्प्रभु गणराज्य” घोषित किया गया था। नागरिकों को न्याय, समानता व स्वतंत्रता का आश्वासन दिया गया था और यह वचन दिया गया था कि “अल्पसंख्यकों, पिछड़े व जनजातीय क्षेत्रों एवं दलित व अन्य पिछड़े वर्गों के लिए पर्याप्त रक्षात्मक प्रावधान किए जाएंगे।’

प्रश्न 2. संविधान की उद्देशिका की कोई चार बातें अपने शब्दों में लिखिए ।
उत्तर : संविधान की उद्देशिका या प्रस्तावना की चार बातें इस प्रकार हैं
1.भारत में सामाजिक, आर्थिक या राजनीतिक न्याय की स्थापना की जायेगी।
2.यहाँ विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म तथा उपासना की स्वतंत्रता स्थापित की जायेगी।
3.भारतीय लोकतांत्रिक गणराज्य में प्रतिष्ठा व अवसर की समानता स्थापित की जायेगी।
4.बंधुता प्राप्ति का उद्देश्य बताया जाएगा।

प्रश्न 3. प्रांतों को अधिक शक्तियाँ देने के विरोध अथवा मज़बूत केंद्र के पक्ष में दिए गए कोई दो तर्क बताइए।
उत्तर : 1. बहुत-से सदस्यों का कहना था कि केंद्र की शक्तियों में भारी वृद्धि की जानी चाहिए ताकि वह सांप्रदायिक हिंसा को रोक सके।
2.संयुक्त प्रांत के एक सदस्य बालकृष्ण शर्मा ने यह तर्क दिया कि केवल शक्तिशाली केंद्र ही देश के हित में योजना बना सकेगा, एक उचित शासन व्यवस्था स्थापित कर सकेगा और देश की विदेशी आक्रमणों से रक्षा कर सकेगा।

प्रश्न 4. भारतीय संविधान की प्रस्तावना हमें क्या बताती है ? इसके चार मुख्य आदर्श कौन-कौन से हैं ?
उत्तर : भारतीय संविधान की प्रस्तावना. हमें यह बताती है कि वास्तव में संविधान का क्या उद्देश्य है। यह घोषणा करता है कि संविधान का स्रोत भारत की जनता हैं। यह निम्नलिखित सिद्धांतों तथा आदर्शों पर बल देता है :
(क) न्याय : सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक।
(ख) स्वतंत्रता : विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास तथा पूजा-अर्चना की।
(ग) समानता : प्रतिष्ठा तथा अवसर की समानता।
(घ) भ्रातृत्व : व्यक्ति की गरिमा तथा राष्ट्र की एकता व अखंडता सुनिश्चित करना तथा आपसी बंधुत्व बढ़ाना।

प्रश्न 5. वयस्क मताधिकार पर आधारित लोकतंत्र का स्पष्ट करें।
उत्तर : वयस्क मताधिकार में प्रत्येक स्त्री-पुरुष को, जिस की आयु 18 वर्ष हो गई है, मत देने का अधिकार है । वह इस अधिकार द्वारा अपना मनचाहा प्रतिनिधि तथा दल चुन सकता है। किसी दल विशेष को बहुमत प्राप्त होने पर उस दल की सरकार बनती है। इसी प्रक्रिया को राज्यों और केन्द्र में दोहराया जाता है। अत: इस तरह से बनने वाली सरकार लोकतांत्रिक होती है।

प्रश्न 6. भारतीय संविधान का पूर्ण वयस्क मताधिकार का अभिलक्षण किस दृष्टि से अनूठा था ?
उत्तर : अन्य देशों में पूर्ण वयस्क मताधिकार एक लंबी प्रक्रिया का परिणाम था जिसमें महिलाओं को सबसे बाद में मताधिकार मिल पाया परन्तु भारत में यह अधिकार आरंभ से ही अपने आप में पूर्ण था।

प्रश्न 7. देसी रियासतों का एकीकरण किसने किया तथा एकीकरण की प्रक्रिया कैसे हुई ?
उत्तर : देसी रियासतों का एकीकरण सरदार वल्लभ भाई पटेल (लौह पुरुष) ने किया। इस काम के लिए उन्होंने छोटी रियासतों को पड़ोसी राज्यों में मिला दिया। कई छोटी रियासतों को मिलाकर उनका एक संघ बनाया। कुछ बड़ी-बड़ी रियासतों को राज्य के रूप में मान्यता दी। कुछ पिछड़े हुए तथा शासन व्यवस्था ठीक न होने वाले राज्यों को केंद्र की निगरानी में रखा गया।.

प्रश्न 8. संविधान क्या है ? भारतीय संविधान कब बनकर तैयार हुआ ? यह लागू कब हुआ ?
उत्तर : संविधान एक कानूनी दस्तावेज है जिसके द्वारा किसी देश का शासन चलाया जाता है। भारत का संविधान 26 नवम्बर, 1949 ई. को बनकर तैयार हुआ और दो महीने बाद 26 जनवरी, 1950 को इसे लागू किया गया।

प्रश्न 9. हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाए जाने के विरोध में क्या तर्क दिया गया ?
उत्तर : इस संबंध में मद्रास की सदस्य श्रीमती दुर्गाबाई का कहना था कि दक्षिण में हिन्दी का विरोध बहुत अधिक है। वहाँ के लोग हिन्दी के लिए हो रहे प्रचार को प्रांतीय भाषाओं की जड़ें खोदने का प्रयास मानते हैं।

प्रश्न 10. संविधान में दिए गए कौन-कौन से मूल अधिकार धार्मिक स्वतंत्रता को सुनिश्चित करते हैं ?
उत्तर : (i) धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार।
(ii) सांस्कृतिक एवं शैक्षिक अधिकार।
(iii) समानता का अधिकार।

प्रश्न 11. भारतीय संविधान के अनुसार धर्म निरपेक्षता क्या है ?
उत्तर : धर्म निरेपक्ष (Secular) : निरपेक्ष शब्द को भारतीय संविधान की प्रस्तावना में 42वें संविधान संशोधन 1976 ई. में जोड़ा गया। इसका तात्पर्य यह है कि भारत किसी धर्म या पंथ को राज्य धर्म या पंथ को राज्य धर्म के रूप में स्वीकार नहीं करता तथा न ही किसी धर्म का विरोध करता है। प्रस्तावना के अनुसार भारतवासियों को धार्मिक विश्वास, धर्म व उपासना की स्वतंत्रता होगी। धर्म को व्यक्तिगत मामला माना गया है। अतः राज्य लोगों के इस कार्य में हस्तक्षेप नहीं करेगा।

प्रश्न 12. राज्य के नीति निर्देशक तत्त्व न्यायिक अयोग्यता रखते हैं, क्यों ?
उत्तर : भारत के संविधान के भाग 4 में नागरिकों के लिए कुछ गारण्टी दी गई है; लेकिन ये न्याय योग्य (Justicable) नहीं हैं। ये राज्य नीति के निर्देशक तत्त्व कहलाते हैं। ये सिद्धांत (तत्त्व) न्याय अयोग्य हैं। इसका अर्थ है कि यदि सरकार इन्हें लागू नहीं करती या इनके विरुद्ध कोई कार्य करती है तो नागरिक उन्हें लागू करवाने के लिए न्यायालय की शरण नहीं ले सकते हैं। न्यायालय राज्य-नीति निर्देशक तत्त्वों को लागू कराने के लिए सक्षम नहीं होता है।

प्रश्न 13 . एन.जी. रंगा ने अल्पसंख्यक को किस प्रकार परिभाषित किया है?
उत्तर : एन.जी. रंगा ने अल्पसंख्यक को निम्न प्रकार से परिभाषित किया है :(i) असली अल्पसंख्यक कौन है? तथाकथित पाकिस्तानी प्रांतों में रहने वाले हिंदू, सिख और यहाँ तक कि मुसलमान भी अल्पसंख्यक नहीं हैं।
(ii) जी नहीं, असली अल्पसंख्यक तो इस देश की जनता है। यह जनता इतनी दबी-कुचली और इतनी उत्पीड़ित है कि अभी तक साधारण नागरिक के अधिकारों का लाभ भी नहीं उठा पा रही है।

प्रश्न 14. संविधान की प्रस्तावना का क्या अर्थ है ? प्रस्तावना का क्या महत्त्व है ?
उत्तर : संविधान की प्रस्तावना का अर्थ है-संविधान का परिचय। संविधान की प्रस्तावना इसलिए महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इससे सरकार का मार्गदर्शन होता है।

प्रश्न 15. प्रभुसत्ता का क्या अर्थ है ?
उत्तर : प्रभुसत्ता का अर्थ है किसी बाहरी शक्ति के दबाव से मुक्त होना। इसका अर्थ है-पूर्ण स्वतंत्रता। भारत 26 जनवरी, 1950 को प्रभुसत्ता सम्पन्न देश बना।

प्रश्न 16. बालकृष्ण शर्मा द्वारा शक्तिशाली केन्द्र के पक्ष में दिए किन्हीं दो तर्कों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर : बालकृष्ण शर्मा ने शक्तिशाली केन्द्र के पक्ष में निम्नलिखित तर्क दिए :(i) बालकृष्ण शर्मा संयुक्त प्रांत के सदस्य थे। सदन में प्रांतों के लिए अधिक शक्तियों की माँग उठ रही थी। उन्होंने विस्तार से इस बात पर प्रकाश डाला कि एक शक्तिशाली केंद्र का होना जरूरी था।
(ii) उनका विचार था कि एक शक्तिशाली केंद्र हो जो देश के हित में योजना बना सके, उपलब्ध आर्थिक संसाधनों को जुटा सके, एक उचित शासन व्यवस्था स्थापित कर सके और देश को विदेशी आक्रमण से बचा सके।

प्रश्न 17. भाषा किस प्रकार धार्मिक पहचान की राजनीति का हिस्सा बन गई ?
उत्तर : हिन्दी तथा उर्दू के एक-दूसरे से दूर जाने से भाषा धार्मिक पहचान की राजनीति का हिस्सा बन गई। हिन्दी को संस्कृतनिष्ठ बनाने का प्रयास किया गया और इसे हिन्दुओं की भाषा माना जाने लगा। दूसरी ओर उर्दू भाषा फारसी के निकट आती गई और यह मुसलमानों की पहचान बन गई।

प्रश्न 18. संविधान सभा की भाषा समिति ने राष्ट्रभा के प्रश्न हिन्दी के बारे में क्या सुझाव दिया था ?
उत्तर : संविधान सभा की भाषा समिति का सुझाव था कि हिन्दी को राष्ट्रभाषा की बजाय राजभाषा बनाया जाए। उसने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि-(i) देवनागरी लिपि में लिखी हिन्दी भारत की राजकीय भाषा होगी।
(ii) पहले 15 साल तक सरकारी कार्यों में अंग्रेजी का प्रयोग जारी रहेगा परन्तु प्रत्येक प्रांत को इसके लिए कोई एक क्षेत्रीय भाषा चुनने का अधिकार होगा।

प्रश्न 19. संविधान निर्माण के समय पिछड़ी जातियों तथा भाषायी अल्पसंख्यकों की क्या-क्या माँग थी ?
उत्तर : पिछड़ी जातियों के समूहों की माँग थी कि, ‘सवरों द्वारा दुर्व्यवहार’ पर रोक लगाई जाए और “विधायिका, सरकारी विभागों तथा स्थानीय निकायों में जनसंख्या के आधार पर सीटों के आरक्षण की व्यवस्था” की जाए।

प्रश्न 20. सामुदायिक अधिकारों अर्थात् समुदायों को अधिकार दिए जाने के प्रति कुछ नेताओं की क्या चिंता थी ?
उत्तर : कुछ नेताओं का कहना था कि समुदायों को अधिकार देने से निष्ठाएँ खंडित होंगी। इससे एक शक्तिशाली राज्य एवं राष्ट्र की स्थापना नहीं हो पाएगी।

प्रश्न 21. संविधान सभा अस्पृश्यों (अछूतों) की समस्या का समाधान किन प्रावधानों द्वारा चाहती थी ?
उत्तर : संविधान सभा चाहती थी कि-(i) अस्पृश्यता का उन्मूलन किया जाए।
(ii) हिन्दू मंदिरों को सभी जातियों के लिए खोल दिया जाए।
(iii) निम्न जातियों की विधायिकाओं तथा सरकारी नौकरियों में आरक्षण दिया जाए।

प्रश्न 22. किन्हीं दो बिन्दुओं के आधार पर भारतीय संविधान का महत्त्व बताइए।
उत्तर : (i) भारतीय संविधान ने अतीत और वर्तमान के घावों पर मरहम लगाने और विभिन्न वर्गों, जातियों तथा समुदायों में बँटे भारतीयों को एक साझी राजनीतिक प्रणाली के अंतर्गत लाने में सहायता की है।
(ii) इस संविधान ने लंबे समय से चली आ रही ऊँच-नीच और अधीनता की संस्कृति में लोकतांत्रिक मूल्यों के विकास में भी सहायता की है।

You cannot copy content of this page
Scroll to Top

Live Quiz : ईंट मनके और अस्थियाँ | 04:00 pm